हरीश रावत ने हरकी पौड़ी पर रविदास मंदिर के बाहर एक दिवसीय धरना दिया

 

 

सीबीआई के रडार पर आए उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरिश रावत ने अब दिल्ली में रविदास मंदिर तोड़े जाने पर सियासत शुरू कर दी है रविदास मंदिर को तोड जाने के विरोध में हरीश रावत ने आज हरिद्वार में हर की पौड़ी पर रविदास मंदिर के बाहर एक दिवसीय धरना दिया हरीश रावत ने दिल्ली में रविदास मंदिर तोड़े जाने के लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए आरोप लगाया कि सरकार ने जानबूझकर कोर्ट के सामने मंदिर को लेकर सही तथ्य नही रखे जिससे 500 साल पुराना ऍतिहासिक रविदास मंदिर ध्वस्त कर दिया गया हरीश रावत ने दिल्ली में तोड़े गए रविदास मंदिर के स्थान पर फिर से भव्य मंदिर बनाने की मांग भी की।
दिल्ली में रविदास मंदिर तोड़े जाने के विरोध में चल रहे आंदोलन को कांग्रेस नेता हरीश रावत ने भी अपना समर्थन दे दिया है हरीश रावत ने मंदिर तोड़े जाने के विरोध में आज हरिद्वार में हर की पौड़ी पर रविदास मंदिर के बाहर धरना दिया हरीश रावत ने आरोप लगाया कि सरकार की लापरवाही और अविवेकपूर्ण फैसले की वजह से मंदिर ध्वस्त हुआ है सरकार यदि कोर्ट के सामने मंदिर को लेकर सही तथ्य रखती और कोई वैकल्पिक प्रस्ताव रखती तो 500 साल पुराने इतिहासिक मंदिर को टूटने से से बचाया जा सकता था हरीश रावत ने कहा कि रविदास केवल किसी जाति विशेष के नही थे बल्कि वह तो पूरी मानवता के लिए थे और उनके मंदिर के तोड़े जाने से करोड़ो लोगो की भावनाओ को गहरी चोट पंहुची है उंन्होने कहा कि मंदिर तोड़े जाने से हम दुखी है इसके आक्रोश में ही हमने मंदिर तोड़े जाने के विरोध में चल रहे देशव्यापी अभियान को समर्थन देने के लिए ही आज यह धरना आयोजित किया है। 

 

 

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने दिल्ली में तोड़े गए रविदास मंदिर को फिर से उसी स्थान पर भव्य रूप से बनाये जाने की मांग भी की है उंन्होने सरकार को चेतावनी दी है कि यदि जल्द ही पुनः मंदिर नही बनाया गया तो वह महीने में एक बार अलग अलग रविदास मंदिरों पर धरना देकर सरकार के खिलाफ अभियान को और तेज करेंगे।