केंद्र की मोदी सरकार के 100 दिन उत्तराखंड के लिए निराशाजनक

उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के 100 दिनों की उप्लब्धियों पर हमलावर टिप्पणी करते हुए 100 दिनों को बेरोजगारों ,युवाओं , उद्योग जगत व किसान के लिए निराशाजनक बताया।  प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ उपाध्यक्ष सूर्य कांत धस्माना ने कहा कि जिस उम्मीद और अपेक्षा के साथ देश की जनता ने दोबारा देश की बागडोर भारी बहुमत के साथ श्री नरेन्द्र मोदी को सौंपी थी उन अपेक्षाओं और उम्मीदों पर 100 दिन के कार्यकाल में तो मोदी सरकार ने पानी फेरने का ही काम किया है। उन्होंने कहा कि देश में बेरोजगारी अपने 50 सालों के इतिहास में चरम पर है, रोजगार के संसाधन बढ़ने की जगह लगातार सिकुड़ रहे हैं , रियल स्टेट सेक्टर तबाह हो गया है जिसके कारण लाखों लोग बेरोजगार हो गए हैं , इसी प्रकार ऑटो मोबाइल सेक्टर भी लगातार मन्दी के कारण बैठ रहा है,मारुति ने अपनी स्थापना के समय से अब तक पहली बार शट डाऊन किया है और अनेक कम्पनियों ने गाड़ियों के उत्पादन बन्द कर दिए हैं । श्री धस्माना ने कहा कि दुनिया में कच्चे तेल की कीमत कम हुई लेकिन भारत में पेट्रोल और डीजल के दामों में कोई कमी नहीं आयी बल्कि आज पेट्रोल और डीजल जिस जमाने में कच्चे तेल की कीमत वर्त्तमान से दोगुना थी तब से भी ज्यादा महंगा मिल रहा है। श्री धस्माना ने कहा कि देश में जो मन्दी का दौर शुरू हुआ है उस पर नियंत्रण करने की जगह केंद्र सरकार ने रिजर्व बैंक से एक लाख छिहत्तर हज़ार करोड़ रुपया जिसे आपातकाल के लिए रिजर्व रक्खा जाता है उसको निकाल कर और खतरे में डाल दिया है। श्री धस्माना ने कहा कि उत्तराखंड के परिपेक्ष्य में मोदी सरकार के इस कार्यकाल के 100 दिन घोर निराशाजनक रहा।