पंजाब के पठानकोट में जगह-जगह दीवारों और खंभों पर लगे सनी देओल 'लापता' के पोस्टर

पंजाब के पठानकोट में जगह-जगह दीवारों और खंभों पर पोस्टर चिपके दिखे। उन पर लिखा था- गुरदासपुर से भाजपा सांसद सनी देओल 'लापता'। पूर्व सांसद विनोद खन्ना के सपने को मौजूदा सांसद और सिने स्टार सनी देओल ने पूरा कर दिखाया है। पठानकोट-जोगिंद्रनगर नैरोगेज रेलवे लाइन पर एलिवेटेड ट्रैक की योजना पर केंद्र ने मुहर लगा दी है। इस बात की पुष्टि भाजपा मेयर अनिल वासुदेवा ने की। वहीं सांसद सनी ने भी ट्वीट कर पठानकोट के लोगों को बधाई दी है। गौरतलब है कि पूर्व सांसद खन्ना ने इस एलिवेटेड ट्रैक की योजना 2014 में बनाकर रेलवे को भेजी थी। 2016 में इसे पास किया गया था लेकिन अब रेल मंत्रालय ने इस पर लिखित सहमति जता दी है। इसके लिए 226.77 करोड़ का प्रावधान रखा गया है। नैरोगेज ट्रैक को पठानकोट स्टेशन से डलहौजी रोड रेलवे स्टेशन तक सड़क से 20 फीट ऊपर उठाया जाएगा। इससे पूरे शहर में ट्रैफिक जाम की समस्या का स्थायी हल हो जाएगा। मेयर ने बताया कि केंद्र की ओर से पास किए प्रपोजल के अनुसार एलिवेटेड ट्रैक की कुल कीमत का 50 फीसदी खर्च केंद्र सरकार वहन करेगी। बाकी 50 फीसदी राज्य सरकार को खर्च करना होगा। इसके लिए सीएम पहले ही सहमति जता चुके हैं। उन्होंने बताया कि सांसद सनी ने इस प्रोजेक्ट को लेकर कई बार रेल मंत्री पीयूष गोयल, चेयरमैन रेलवे बोर्ड और डीआरएम से मुलाकात की। इसके अलावा उन्होंने राज्य सरकार से भी इस मामले में बात की थी। इसके बाद सीएम ने खुद इस प्रोजेक्ट पर 50 फीसदी खर्च करने की सहमति प्रकट की थी। शहर के बीचोंबीच गुजरने वाली नैरोगेज रेल लाइन पर ट्रेन के गुजरने से दस मिनट पहले सभी 9 के 9 फाटकों को एक साथ बंद कर दिया जाता है। इससे शहर की रफ्तार पूरी तरह थम जाती है। पिछले वर्ष निगम ने फाटक बंद होने के बाद वाहनों की संख्या को गिनने के लिए सर्वे करवाया था। सर्वे के दौरान यह बात सामने निकलकर आई थी कि ढांगू रोड फाटक पर चार सौ और बाकी फाटकों पर तीन सौ से अधिक वाहन खड़े होते हैं। कर्मचारियों का कहना है कि 24 घंटे में 14 बार ट्रेन गुजरने से 7 मिनट पहले फाटक को बंद कर दिया जाता है। इससे औसतन दिन में दो से ढाई घंटे तक फाटक बंद होता है। काली माता मंदिर, ढांगू रोड, कचहरी फाटक व प्रीतनगर का फाटक बंद होने के बाद तो मानो शहर जाम हो जाता है।