विधानसभा अध्यक्ष ने ली सभापतियों की बैठक

उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल ने आज विधान परिसर, देहरादून में विधानसभा की विभिन्न समितियों के सभापतियों की बैठक आहुत की। इस दौरान सभापतियों ने अपनी-अपनी समितियों की प्रगति आख्या प्रस्तुत की। इस दौरान विधानसभा अध्यक्ष ने समिति की बैठकों के दौरान माननीय सदस्यों की गैरहाजिरी पर भी चिंता जाहिर की।


     उत्तराखंड विधानसभा में तीसरी बार आहुत इस प्रकार की बैठक में विधानसभा अध्यक्ष ने समितियों के सभापतियों से समितियों की होने वाली बैठकों एवं उससे संबंधित कार्रवाई, बैठकों में समिति के सदस्यों की सक्रियता एवं अधिकारियों के रवैये की चर्चा की।
     इस दौरान विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि  समितियों की बैठक विधिवत एवं सुचारू रूप से होनी चाहिए है एवं जिन समितियों की बैठक आयोजित भी हो रही है उनमें समिति के सभी सदस्य बैठक के दौरान मौजूद रहने चाहिए l
     बैठक के दौरान विधानसभा अध्यक्ष ने कहा  की समितियों के कार्य संचालन पर व्यक्तिगत रूचि रखकर समितियों के प्रभाव की दिशा में कार्य करें
      इस दौरान विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि माननीय सदस्य समिति की शक्तियों को समझे।समिति मे मिनी विधानसभा की शक्ति निहित है।उन्होंने  सभी समिति के सदस्यों से समिति की बैठकों को गंभीरता से लेने का अनुरोध किया है। 
     इस अवसर पर लोक लेखा समिति के सभापति काजी निज़ामुद्दीन ने विधानसभा अध्यक्ष का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि वह लगातार बैठकों के माध्यम से सभी समिति की गतिविधियों का ब्यौरा ले रहे हैं।
       इस अवसर पर इस अवसर पर लोक लेखा समिति के सभापति काजी निजामुद्दीन, उपक्रम एवं निगम समिति के सभापति विशन सिंह  चोफाल, सूचना प्रौद्योगिकी समिति के सभापति देशराज कर्णवाल, आश्वासन समिति के सभापति करन माहरा एवं संस्कृत उन्नयन समिति के सभापति डॉ प्रेम सिंह राणा उपस्थित थे।