अवैध वसूली पर पुलिस कर्मियों पर की गई कार्यवाही


  पुलिस उपमहानिरीक्षक/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून द्वारा जनपद का कार्यभार ग्रहण करने के पश्चात एवं इसके अतिरिक्त प्रत्येक माह आयोजित होने वाले मासिक सैनिक सम्मेलन में जनपद के सभी अधीनस्थों को ड्यूटी के दौरान जनता के साथ अपना व्यवहार मर्यादित रखते हुए शालीनता बनाये रखने और अपनी ड्यूटी को पूर्ण ईमानदारी और कर्तव्यनिष्ठा के साथ निर्वहन करने हेतु लगातार निर्देशित किया जाता रहा है, साथ ही सभी अधिकारी/कर्मचारीगणों को आगाह किया गया था कि यदि किसी भी अधिकारी/कर्मचारी के विरूद्ध अवैध वसूली/भ्रष्टाचार से सम्बन्धित कोई शिकायत प्राप्त होती है तो उक्त अधिकारी/कर्मचारी के विरूद्ध कठोर वैधानिक कार्यवाही की जायेगी। 
आज दिनाँक: 04-02-2020 को पुलिस उपमहानिरीक्षक/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून को थाना विकासनगर क्षेत्र से शिकायत प्राप्त हुई, जिसका संज्ञान लेते हुए महोदय द्वारा प्रभारी निरीक्षक विकासनगर को तत्काल कठोर वैधानिक कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए थे, जिस पर थाना विकासनगर पर तैनात दो पुलिस कर्मियों के विरूद्ध अभियोग पंजिकृत किया गया है, जिसका विवरण निम्नवत है:


आज दिनांक: 04-02-2020 को वादी श्री करम सिंह पुत्र मनोहर सिंह नि0- ग्राम लक्ष्मीपुर, थाना सहसपुर,  देहरादून द्वारा थाना विकासनगर में लिखित तहरीर दी की दिनांक: 31-01-2020 की रात्रि में वह तथा उसके दो अन्य कर्मचारी अलग-अलग मोटर साइकिलों से विकासनगर से लक्ष्मीपुर की ओर जा रहे थे, तभी बरोटीवाला चैक पर ड्यूटीरत पुलिस कर्मी कां0 प्रदीप व कां0 रमेश रावत द्वारा उन्हें रोककर गाड़ी के कागजात चैक किये गये तथा चैकिंग के नाम पर 2000/- रूपये की मांग करते हुए गाडी सीज करने की धमकी दी गयी। मौके पर कां0 प्रदीप द्वारा वादी को गाड़ी सीज करने की बात कहकर उससे 500/- रूपये ले लिये तथा उनके साथ अभद्र व्यवहार किया गया। उक्त लिखित तहरीर के आधार पर थाना विकासनगर पर संबंधित धाराओं में अभियोग पंजीकृत किया गया। दोनों कर्मचारियों को तत्काल पुलिस उपमहानिरीक्षक/ वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून द्वारा लाइन हाजिर किया गया है।