उत्तराखंड सरकार के शिक्षा मंत्री का शर्मसार बयान


उत्तराखंड सरकार के शिक्षा मंत्री का शर्मसार बयान कि जो अभिभावक प्राइवेट स्कूलों में फीस नही दे पा रहे है वह अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों में पढ़ाये। कोरोना काल मे शिक्षा मंत्री की इस सोच को दुर्भाग्य पूर्ण के साथ अपमानजनक बयान है।जिसका उक्रांद घोर निंदा करता है।आज प्राइवेट सेक्टरों में काम करने वाले, होटल लाइन में काम करने वालो का कोरोना महामारी के कारण रोजगार खत्म हो चुका है, जहां ये लोग आर्थिक तंगी में जी रहे है और इन सभी अभिभावकों का कहना है कि 3 महीने की फीस माफ की जाय।लेकिन सरकार प्राइवेट स्कूलों के मालिकों के आगे नतमस्तक हो गयी है। उनके खिलाफ कठोर कदम उठाने की जगह अभिभावकों का शोषण किया जा रहा है।राज्य सरकार की इस प्रताड़ना जैसे व्यवहार को बर्दाश्त नही किया जायेगा, तथा शिक्षा मंत्री अरबिंद कुमार पांडेय अपने इस कृत्य के लिये माफी मांगे।