पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने हरेला पर्व पर की पूजा अर्चना

आज पूरे उत्तराखंड में हरेला का पर्व बड़े ही धूमधाम से मनाया जा रहा है इस मौके पर आज उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने घंटाघर स्थित पंचायती मंदिर पहुंचकर पूजा अर्चना की और उन्होंने इस मौके पर कहा कि हरेला का पर्व उत्तराखंड में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है क्योंकि यह पर्व हमारी आध्यात्मिक और सांस्कृतिक परंपराओं से जुड़ा हुआ पर्व है कहा जाता है कि नंदा देवी जो हिमालय की बेटी थी उस बेटी को हर साल अपने मायके का अन मिले जिसके लिए 7 या 9 अनाज का हरेला बो कर के वह भेजा जाता था आज भी उसी परंपरा के स्वरूप जहां भी बेटी होती है हरेला भेजा जाता है यह पर्व 1 महीने तक चलता है 16 अगस्त को यह पर्व समाप्त होगा हरेला के पर्व पर मैं सभी उत्तराखंड वासियों को बधाई देना चाहता हूं साथ ही आशा मनोरमा ने कहा कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत को भी हरीश रावत से सिख लेनी चाहिए कि किस तरह से संस्कृति को बचाया जाता है