सीमावर्ती चैकपोस्ट पर जनपद में आने वाले पर्यटकों पर रखी जाय पैनी नजर : जिलाधिकारी 

वर्षाकाल के दौरान घटित सम्भावित दुर्घटनाओं के मद्ेनजर  देश के अन्य राज्यों से आने वाले पर्यटकों की आवाजाही पर पैनी नजर रखने को लेकर जिला कार्यालय में जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गई।
बैठक में जिलाधिकारी ने जनपद के प्रवेश द्वार आशारोड़ी, रायवाला-ऋषिकेश आदि स्थानों पर विशेष चैकसी बरतने के निर्देश देते हुए कहा कि जनपद में आने वाले पर्यटकों की गहन जांच पड़ताल कर उनका पंजीकरण किया जाना नितांत आवश्यक है, ताकि किसी भी प्रकार कोराना संकाल से निजात पाई जा सके। उन्होंने उप जिलाधिकारी मसूरी को हिदायत दी कि बाहर से आने वाले पर्यटकों की चैकिंग का विशेष अभियान चलाया जाय साथ ही कोविड-19 संक्रमण से निपटने हेतु मास्क, सेनिटाइजर, सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ख्याल रखा जाय, यदि पर्यटकों द्वारा इसका पालन नही किया जाता है तो उनके विरूद्ध आपदा प्रबन्धन अधिनियम  के तहत् कार्यवाही कर चालान की प्रक्रिया अपनाई जाय। बैठक में जिलाधिकारी ने उप जिलाधिकारी एवं पुलिस क्षेत्राधिकारी मसूरी को निर्देश दिये कि मसूरी में प्रवेश द्वार कुठाल गेट पर पर्यटकों की गहन जांच-पड़ताल के उपरान्त ही उन्हें भेजा जाय तथा हाथीपांव -किमाड़ी मार्ग पर सांय 8 बजे से प्रातः 7 तक बाहरी लोगों के वाहनों की आवाजाही पर रोक लगाई जाय। इस रूट पर स्थानीय निवासियों के आवागमन को सुचारू रूप से चलाया जाय। उन्होंने बताया कि वर्षाकाल के दौरान गुच्चुपानी, सहस्त्रधारा, मालदेवता आदि पर्यटक स्थलों पर आने वाले पर्यटकों को सतर्कता बरतने को कहा जाय, क्योंकि वर्षाकाल के दौरान जल प्रवाह का अचानक बढ़ने से खतरा पैदा हो सकता है। बैठक में जिलाधिकारी उप जिलाधिकारी मसूरी को पर्यटकों की आवाजाही के सम्बन्ध में मीडिया को अवगत कराया जाय तथा सघन चैकिंग अभियान चलाकर पर्यटकों को अनावश्यक चहलकदमी पर भी रोक लगाने का कार्य किया जाय।  बैठक में अपर जिलाधिकारी प्रशासन अरविन्द पाण्डेय, उप जिलाधिकारी मसूरी प्रेमलाल, पुलिस क्षेत्राधिकारी मसूरी नरेन्द्र पंत आदि उपस्थित रहे।