प्रदूषण जांच केंद्रों पर हो रही अवैध वसूली आर टी ओ ने दिए जांच के आदेश

केंद्र सरकार के यातायात नियमों में नए नियम बनाए गए हैं जिसको लेकर अब लोगों में आक्रोश भी नजर आ रहा है  वही प्रदूषण केंद्र वाले अपनी मनमानी पर उतर आए हैं जहां सभी लोग प्रदूषण कराने प्रदूषण केंद्र पर पहुंच रहे हैं तो उनसे अवैध वसूली भी की जा रही है जिस पर आरटीओ दिनेश चंद्र पठोई का कहना है कि सरकार ने नए नियम बना दिए हैं जिसमें काफी बढ़ोतरी भी जुर्माने में की गई है और प्रदूषण के नियमों में भी जो जुर्माना था वह काफी बढ़ा दे गया है जिसे देखने को मिल रहा है कि काफी लोग प्रदूषण केंद्रों पर जाकर प्रदूषण बनवा रहे हैं जो हमारे संज्ञान में आया है कि जिस तरीके से प्रदूषण केंद्रों पर अवैध वसूली निर्धारित मूल्य से अधिक वसूले जा रहे हैं इसकी शिकायत हमको मिली है इसकी एजेंसी के मालिक या संस्थाओं पर हम जांच कराएंगे कि कौन मालिक है जो निर्धारित मूल्य से अधिक ले रहे हैं उनकी जांच कराई जाएगी और जो तथ्य सामने आते हैं उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी 


तो वही लोगों में भी काफी आक्रोश है लोगों का कहना है कि सरकार ने नियम तो लागू कर दिए हैं लेकिन उसकी पहले से कोई व्यवस्था लागू नहीं की गई देखने में आ रहा है कि सभी प्रदूषण केंद्रों पर काफी भीड़ लग चुकी है और उनके पास इतनी जगह भी नहीं है कि गाड़ी खड़ी कर सके और इतने पैसे किसी के पास नहीं है कि जो प्रदूषण ना होने पर ₹10000 जुर्माना भर सके