राधा रतूड़ी जी के आदेशों की खुलेआम सरकारी विभाग उड़ा रहे धज्जियां


आपको बताते चलें की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्लास्टिक के खिलाफ पूरे देश में अभियान चला रखा है जिस अभियान को बेखुबी निभाया भी जा रहा है तो वही आम जनता की जेब पर प्लास्टिक के बहाने डाका भी डाला जा रहा है किसी भी नियम को लागू करने पर जनता का बखूबी से चालान काटा जाता है और उससे जुर्माना भी वसूला जाता है लेकिन जब यही उल्लंघन शासन में या किसी विभाग में बैठे अधिकारी करें तो उनकी ओर कोई भी ध्यान नहीं देता और ना ही कोई चालान काटा जाता है


जी हां आज एक बैठक में शासन के अधिकारियों ने ही शासन के आदेशों की धज्जियां उड़ाई जबकि राधा रतूड़ी ने एक जीओ जारी करते हुए सख्त आदेश दिए थे की किसी भी सरकारी विभाग या फिर कार्यालय में प्लास्टिक की बोतल का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा लेकिन उनके आदेशों की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं आज मीडिया के कैमरों के सामने जब शासन के अधिकारी खुलेआम प्लास्टिक की बोतलों में पानी पी रहे थे साथ ही मीडिया को भी उन्हीं बोतल में पानी परोसा गया जबकि मुख्यमंत्री की घोषणा के बाद अपर मुख्य सचिव ने इस संबंध में आदेश भी जारी किया था लेकिन हमारे कैमरे में कैद हुई तस्वीरों से साफ दिख रहा है कि अधिकारी शासन के आदेशों को कितना मानते हैं अब बड़ा सवाल यह उठता है कि जिस तरीके से इन आदेशों को मनाने के लिए नगर निगम व शासन लगातार प्रयास कर रहा है और जनता के व्यापारियों के चालान काटे जा रहे हैं तो क्या एसी में बैठे दफ्तर में अधिकारियों पर शासन कोई कार्रवाई करेगा