फर्जी फाइनेंस कंपनी खोलकर लोगों से लोन दिलाने के एवज में लाखों रुपए की ठगी करने वाले गिरोह के 5 सदस्य गिरफ्तार,

श्रीमती ज्योति शर्मा निवासी खुडबुड़ा थाना कोतवाली नगर देहरादून द्वारा तहरीर देकर अंकित कराया कि थाना नेहरू कालोनी क्षेत्र में SAVMAAN FINANCIAL Pvt. Ltd. कम्पनी के नाम पर कुछ लोगों द्वारा सोची समझी साजिश के तहत लोन दिलाने के बहाने 2360/-  रुपये प्रति व्यक्ति के हिसाब से करीब 50 से अधिक व्यक्तियों के फर्जी दस्तावेज बनाकर करीब 1,50,000/- ₹  से अधिक रुपये ठग लिए गये और वर्तमान में अपना कार्यालय प्रवेश विहार नेहरू कालोनी में किराये में था, छोडकर फरार हो गए है । उक्त फर्जीवाड़े में 200 से लेकर 300 व्यक्ति और भी पीड़ित हो सकते है। इनके द्वारा देहरादून के कई क्षेत्रों से लोगों को गुमराह किया है।  उक्त प्रार्थना पत्र पर थाना नेहरुकोलोनी पर अभियोग  पंजीकृत कर उच्चाधिकारी गणों के आदेशानुसार मुकदमे के खुलासे के लिए टीम गठित की गई।  दौराने विवेचना अभियुक्त गणों का मोबाइल नंबर आधार कार्ड फर्जी पाया गया।  घटनास्थल के आसपास के सीसीटीवी फुटेज को चेक किया गया तथा ठगी के मामलों में पूर्व में प्रकाश में आये अभियुक्तों से पूछताछ की गई व मोबाइल सर्विलांस की सहायता ली गई, जिससे मेरठ, बागपत, सहारनपुर निवासी पांच अभियुक्तो का नाम प्रकाश में आया,  जिनमें तीन अभियुक्त गणों को खकरौंदा, मेरठ से दिनांक 19/11/19 को गिरफ्तार कर थाना नेहरू कॉलोनी पर लाया गया, जिन्होंने उपरोक्त फाइनेंस कंपनी के नाम पर लोगों से ठगी करने के जुर्म को स्वीकारा है व उपरोक्त तीन सदस्यों द्वारा पूछताछ में अन्य 2 सदस्यों अभियुक्त राजू व दीपक बालियान के नाम बताए,  जिस पर एक अन्य टीम गठित कर उपरोक्त दो सदस्यों को भी आज गिरफ्तार किया गया।  अभियुक्तगणों की निशानदेही पर फर्जीवाड़े से संबंधित दस्तावेज बरामद किए गए।  पूछताछ में अभियुक्तों ने बताया कि हम लोगों के द्वारा जुलाई और अगस्त माह में एक साथ मिलकर स्वमान नाम की फर्जी कंपनी खोली थी, जिनमें हमने लोगों से लोन दिलाने के नाम से 2360/-  रुपए फाइल चार्ज के रूप में लिया था।  हमारे पास डेढ़ लाख रुपए इकट्ठा हो गए थे परंतु लोगों को हम पर शक हो गया था इसलिए हमें कंपनी छोड़कर भागना पड़ा। उपरोक्त गैंग के तीन सदस्यों/अभियुक्त गणों को आज माननीय न्यायालय में पेश किया गया है।  शेष दो अभियुक्तो दीपक एवं राजू को कल समय से मा0 न्यायालय पेश किया जाएगा।
 


पूछताछ में अभियुक्त गणों द्वारा बताया गया कि अभियुक्त राजू उपरोक्त अपराध में मुख्य अभियुक्त है, जिसके द्वारा अभियुक्त दीपक बालियान के साथ मिलकर देहरादून में फर्जी फाइनेंस कंपनी खोलकर लोगों से ठगी करने की योजना बनाई गई एवं इसके लिए तीन अन्य सदस्यों की आवश्यकता थी, जिस पर दीपक बालियान ने अपने पुराने परिचित उपरोक्त तीन अभियुक्त अन्य से संपर्क किया एवं अन्य तीन अभियुक्तों को योजना के अनुसार देहरादून बुलाया एवं तीनों अभियुक्तों को मुख्य अभियुक्त राजू के साथ पब्लिक के पास बैंक डीलिंग एवं अन्य कार्यों के लिए दस्तावेज बनाकर भेजें एवं उपरोक्त अभियुक्त गणों  द्वारा आम जनता से ही फर्जी फाइनेंस कंपनी के माध्यम से लोन दिलाने की एवज में करीब डेढ लाख तक की ठगी की गई एवं उपरोक्त अभियुक्त गण घटना करने के बाद फरार हो गए। उपरोक्त अभियुक्त गणों के अपराधिक इतिहास की जानकारी की जा रही है।