पुलिस दुवारा चलाया गया जागरूकता अभियान


वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून के आदेशानुसार श्री प्रकाश चन्द्र, पुलिस अधीक्षक यातायात देहरादून के निर्देशन में 01 नवम्बर 2019 से स्कूल और कॉलेजों में सड़क सुरक्षा के बारे में जागरूकता कार्यक्रम किया जा रहा है।  उक्त जागरूकता कार्यक्रम के तहत दिनांक 23/11/19 को सेंट जोजफ स्कूल राजपुर रोड़ देहरादून में पुलिस अधीक्षक यातायात द्वारा अपनी टीम के साथ प्रातः कालीन असेम्बली में जूनियर वर्ग के बच्चों  को यातायात सुरक्षा संबंधित सभी मूलभूत जानकारी दी गई तथा बच्चों को सड़क सुरक्षा के 10 सुनहरे नियमों (10 Golden  Rules For Road Safety) के महत्व को समझाते हुए बच्चों से इन 10 नियमों को अपने जीवन में कभी न भूलने की अपेक्षा की गई । बच्चों के मध्य श्री राजीव रावत यातायात निरीक्षक द्वारा  ओवर स्पीड, गलत दिशा में वाहन चलाना, तीन सवारी ,बिना हेलमेट, सीट बेल्ट के वाहन चलाना को सड़क दुर्घटना के लिए सबसे बड़ा कारण बताया गया । श्री राजपाल रावत यातायात निरीक्षक द्वारा  मार्गों पर दर्शाये जाने वाले विभिन्न आदेशात्मक, सचेतक एवं सूचनात्मक  सड़क चिन्हों का अनुसरण करने, हैलमेट व सीट बैल्ट की उपयोगिता एवं सड़क दुर्घटनाओं  के प्रति सुरक्षात्मक उपायों से अवगत कराया गया । श्री संजीव त्यागी उपनिरीक्षक सीपीयू द्वारा बच्चों को अपने अपने अभिभावकों को जागरूक करने का अनुरोध किया गया । इस कार्यक्रम के अवसर पर अभिनव शर्मा निवासी विकासलोक लेन नo 5 अधोईवाला सहस्रधारा रोड़ देहरादून द्वारा सड़क सुरक्षा मानकों के अनुरूप दुपहिया वाहन में स्कूल आते-जाते  समय स्वयं तथा बच्चे अथर्व शर्मा (क्लास 1E) द्वारा हेलमेट धारण किया गया,इनके इस सजग अभिभावक सुरक्षित बच्चे की मुहिम की सराहना करते हुए श्री प्रकाश चन्द्र पुलिस अधीक्षक द्वारा आज यातायात पुलिस देहरादून की ओर से प्रशस्ति पत्र मय स्मृति चिन्ह के साथ सम्मानित किया गया एवं बच्चों के माध्यम से सभी अभिभावकों से सड़क सुरक्षा में  सावधानियां बरतने,यातायात नियमों का पूर्ण रूप से पालन करने व यातायात के प्रति अपनी जिम्मेदारी का ईमानदारी के साथ निर्वहन  करने की अपील की गई । उक्त कार्यक्रम के दौरान सड़क सुरक्षा के 10 सुनहरे नियम से सम्बन्धित पंपलेट भी छात्र-छात्राओं के मध्य वितरित किये गये । उक्त कार्यक्रम में सेंट जोजफ स्कूल के उपप्रधानाचार्य ब्रदर बिनॉय के साथ स्कूल समन्वयक श्रीमती एस हसन व अन्य अध्यापकगण के साथ यातायात कर्मी व लगभग  1000  जूनियर  छात्र-छात्राएं  मौजूद रहे  है ।