उत्तराखंड राज्य के निर्माण के पीछे की जन अपेक्षाएं आज भी अधूरी, लैंसडौन के विकास के लिए हमेशा चिंतित रहता हूँ- धस्माना


 लैंसडौन विधान सभा क्षेत्र विकास के मामले में काफी पीछे छूट गया है ,इसके विकास के लिए मैं हमेशा चिंतित रहता हूँ यह बात आज जेयरिखाल क्षेत्र पंचायत के नव निर्वाचित प्रमुख उप प्रमुख व सदस्यों के शपथ ग्रहण कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना ने अपने संबोधन में कही। उन्होंने कहा कि राज्य निर्माण के पीछे जो भावनाएं व अपेक्षाएं थी आज 19 साल बाद वो जस की तस हैं। श्री धस्माना ने कहा कि आज पहाड़ के लोगों की दशा राज्य निर्माण से पूर्व की दशा से भी बत्तर है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य सेवाओं के नाम पर केवल भवन खड़े हैं पूरे पहाड़ में डॉक्टर के नाम पर जितने डॉक्टर होने चाहिएं उसके एक तिहाई डॉक्टर भी नहीं है। उन्होंने कहा कि रोजगार के अवसर बढ़ने की जगह लगातार सिकुड़ रहे हैं। पहाड़ में अब या तो ठेकेदार बचे हैं या शराब की दुकानें। श्री धस्माना ने कहा कि राज्य निर्माण के बाद उत्तराखंड के आठ मुख्यमंत्रियों में से पांच मुख्यमंत्री पौड़ी जिले के मूल के बने लेकिन किसी ने पौड़ी की सुध नहीं ली। उन्होंने कहा कि वर्तमान मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी पौड़ी के हैं किंतु हालात ये हैं कि पूरे पहाड़ में विकास की दौड़ में पौड़ी सबसे पीछे छूट गया है। जन प्रतिनिधियों की उदासीनता के कारण लैंसडौन आज पौड़ी का सबसे पिछड़े विकास खंडों में शुमार है। श्री धस्माना ने कहा कि अब इस क्षेत्र के विकास की लड़ाई सड़कों पर लड़ी जाएगी। 
एसडीएम अपर्णा ढोंडियाल ने प्रमुख पद पर श्री दीपक भंडारी,ज्येष्ठ उप प्रमुख अजय शंकर ढोंडियाल व कनिष्ठ उप प्रमुख अनुभा रावत को शापथ दिलाई व तत्पश्चात प्रमुख श्री दीपक भंडारी ने सभी क्षेत्र पंचायत सदस्यों को पद व गोपनीयता की शापथ दिलाई। शापथ ग्रहण कार्यक्रम में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के बड़े भाई वीरेंद्र सिंह रावत, श्री कवींद्र इष्टवाल, श्री सुरेंद्र सिंह नेगी,श्री दीपक पोखरियाल,श्री तीर्थ सिंह रावत,श्री स्वरूप सिंह,श्री हरीश खंतवाल,श्री प्रकाश बोंठियाल ,श्री राजेश ध्यानी सहित बड़ी संख्या में जन प्रतिनिधि शामिल हुए।