जल्द दून में भी कर सकेंगे रोपवे की यात्रा

शहर में सामान्य परिवहन प्रणाली के रूप में रोपवे प्रणाली स्थापित की जाएगी. यह बात नगर विकास मंत्री मदन कौशिक ने विधानसभा सभा कक्ष में उत्तराखण्ड रेल परियोजना और दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन  के बीच रोपवे प्रणाली  को विकसित करने हेतु अनुबन्ध पत्र पर हस्ताक्षर करते हुए कही. उत्तराखण्ड मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन और दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन के बीच देहरादून शहर में स्थापित रोपवे परियोजना के लिए डीपीआर तैयार करने के लिए अनुबन्ध हुआ है..... इस अवसर पर डीपीआर की पहली किस्त के रूप में 43.30 लाख रुपये का चेक दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन को प्रदान किया गया...वहीं पत्रकारों से बातचीत में शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि रोपवे प्रणाली सामान्य परिवहन के रूप में स्थापित होने के बाद देहरादून में पर्यटकों को सुविधा प्राप्त होगी तथा ट्रैफिक जाम से निजात पाने में भी मदद मिलेगी.  इसके दो रूट होंगे. पहला एफआरआई से घण्टाकर होकर रिस्पना और  दूसरा आईएसबीटी से घण्टाघर होकर कण्डोली, मधुबन होटल के पास तक पहुंचेगा. एक रोपवे की परिवहन क्षमता लगभग 10 यात्रियों की होगी.पीआरटी पॉड टैक्सी, एनआरटी मेट्रो भीपावर पॉएंट प्रजेंटेशन के समय बताया गया कि उत्तराखण्ड में मेट्रो परियोजना के तहत सुविधा अनुसार देहरादून, ऋषिकेश और हरिद्वार  में अलग-अलग प्रणालियां विकसित की जाएंगी. देहरादून, ऋषिकेश और हरिद्वार मेट्रोपोलेटियन एरिया में देहरादून में रोपवे प्रणाली, हरिद्वार में पीआरटी पॉड टैक्सी प्रणाली और ऋषिकेश से नेपाली फार्म होकर देहरादून-हरिद्वार को जोड़ने के लिए एलआरटी लाइट मेट्रो प्रणाली स्थापित की जाएगी