बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ वालों की सरकार में बेटियां और बहनें बेहाल-धस्माना

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का नारा देने वालों के राज में राज्य की हज़ारों बेटियां और बहनें अपने हक़ की मांग को लेकर पिछले इकतालीस दिनों से सड़कों पर संघर्ष कर रही हैं कड़कती ठंड में रात दो दो बजे तक खुले में बैठ कर मुख्यमंत्री के आवास के बाहर उनका इंतजार करती हैं और उनकी समस्या को जानने की बजाय पुलिस उनके साथ बदसलूकी करती है ऐसा करने वाले कभी बेटी बहनों के हितैषी नहीं हो सकते यह बात आज उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व वरिष्ठ उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना ने परेड ग्राउंड में आंदोलनकारी आंगनवाड़ी कार्यक्रतियों को संबोधित करते हुए कही। आंदोलन को कांग्रेस पार्टी का समर्थन घोषित करते हुए श्री धस्माना ने कहा कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह भी आंदोलनकारी कार्यक्रतियों के बीच पहुंचेंगे और इस सम्बंध में राज्यपाल मुख्यमंत्री जिससे भी मिलने की आवश्यकता होगी मिलेंगे व आंगनवाड़ी कार्यक्रतियों की जायज़ मांगों को मनवाने के पूरा प्रयास करेंगे। श्री धस्माना ने राज्य की त्रिवेंद्र सरकार को महिला विरोधी करार देते हुए कहा कि आज पूरे पहाड़ में अगर सबसे ज्यादा दुर्दशा किसी की है तो वो पहाड़ की महिला की है। श्री धस्माना ने कहा कि महिला पहाड़ के विकास की धुरी है जिसके कंधों पर घर चूल्हा खेत पशु पानी सब कुछ निर्भर है किंतु उनके सर से घस लकड़ी व पानी का बोझ कम करने का कोई प्रयास सरकार नहीं कर रही। उन्होंने कहा कि आंगनवाड़ी कार्यकार्तियों के मानदेय बढ़ाने का काम केवल कांग्रेस सरकार के जमाने में हुआ और पिछले तीन वर्षों में त्रिवेंद्र   सरकार ने एक नया पैसा भी नहीं बढ़ाया। आंगनबाड़ी की प्रदेश अध्यक्ष श्रीमती रेखा नेगी ने श्री धस्माना का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि 41 दिनों के आंदोलन में श्री धस्माना ने हम लोगों को दूसरी बार हमारे बीच पहुंच कर समर्थन दिया इसके लिए संघठन व प्रदेशभर की सभी आंगनवाड़ी कार्यकर्ती हमेशा उनकी ऋणि रहेंगी। संघठन की महामंत्री श्रीमती सुमति थपलियाल ,उपाध्यक्ष विमला कोहली, जिला अध्यक्ष ज्योतिका पांडेय व मीनाक्षी रावत ने भी इस अवसर पर श्री धस्माना का आभार व्यक्त किया। श्री धस्माना काफी देर आंदोलनकारियों के साथ धरने पर बैठे। धरने में कांग्रेस पार्षद सचिन थापा, जितेंद्र बर्तवाल , महेश जोशी भी उपस्थित रहे।