गुरु गोविंद सिंह का 354 वॉ प्रकाशोत्सव

ऐतिहासिक गुरूद्वारा नानकमत्ता साहिब में सिखों के दसवे गुरु गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज का 354 वॉ प्रकाशोत्सव(जन्मोत्सव)बड़ी श्रद्धापूर्वक व धूमधाम के साथ गया मनाया।जिसमे गुरुग्रँथ साहिब की रहनुमाई व पंच प्यारो की अगुवाई में सैकड़ों संगतों द्वारा निकाला गया महान नगरकीर्तन।


-ऐतिहासिक गुरूद्वारा श्री नानकमत्ता साहिब में सिखों के दसवे गुरु गुरुगोविंद सिंह जी महाराज का 354 वॉ प्रकाशोत्सव(जन्मोत्सव)बड़ी श्रद्धापूर्वक व धूमधाम के साथ मनाया गया।जिसमें गुरुग्रँथ साहिब की रहनुमाई व पंच प्यारो की अगुवाई में सैकड़ों संगतों ने महान नगर कीर्तन निकाला गया।महान नगरकीर्तन डेरा कारसेवा से होता हुआ तपेड़ा पहुँचा जहाँ नगरवासियो द्वारा उनका जगह-2 स्वागत किया गया।और चाय, बूदी, फलो आदि का प्रसाद वितरित किया गया। महान नगरकीर्तन में सबसे पहले बीबियों व भाईयो द्वारा सड़क की सफाई की जा रही थी उसके बाद फूलो की वर्षा की जा रही थी उसके बाद पंच प्यारे चल रहे थे और उसके बाद गुरुग्रन्थ साहिब की सवारी चल रही थी उसके बाद सैकड़ो संगत पैदल व अपने-2 वाहनों से चल रहे थे।वही विभिन्न कालेजो,स्कूलो के छात्र-छात्राऐ कतारबंध होकर महान नगर कीर्तन की शोभा बढ़ा रहे थे।वही रंजीत अखाड़ा द्वारा हेरत अगेज कारनामे दिखा कर संगतों का मन मोह लिया। इधर गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रधान स०सेवा सिंह तथा सचिव केहर सिंह ने बताया कि सिखों के दसवे गुरु गोविंदसिंह जी महाराज का 354 वा प्रकाशोत्सव बड़ी श्रद्धापूर्वक व धूमधाम के साथ मनाया गया। जिसमें सेकडो संगतों ने भाग लिया है महान नगरकीर्तन तपेड़ा होते हुए बिजली कालोनी तक पहुँचा था।जो वापिस होते हुए गरुद्वारा नानकमत्ता साहिब आखरी अरदास के साथ संपन्न हुआ है।