जिलाधिकारी सी रविशंकर ने किया निरक्षण , बोले अवैध वसूली नहीं होगी बर्दाश एस डी एम को दिए जाँच के आदेश

 जिलाधिकारी सी रविशंकर की अध्यक्षता में औद्योगिक आस्थान पटेलनगर एवं सेलाकुई में जिला उद्योग मित्र समिति की औद्योगिक क्षेत्र की विभिन्न समस्याओं के समाधान के सम्बन्ध में बैठक लेते हुए दोनों स्थलों का भौतिक निरीक्षण भी करते हुए विभिन्न विभागों, एजेंसियों और एसोसिएशनों को व्यवस्थाओं को सुधारनें के व्यापक दिशा-निर्देश दिये। इस दौरान जिलाधिकारी द्वारा औद्योगिक क्षेत्रों में सड़कें, सैनिटेशन (साफ-सफाई), विद्युत व्यवस्था, डेªनेज सिस्टम, वेस्टमैनेजमेंट निस्तारण, यातायात व्यवस्था, कामगारों की सुरक्षा, अतिक्रमण, छोटे-बड़े निर्माण कार्यों के सम्बन्ध में विभिन्न विभागांें को व्यक्तिगत रूप से तथा संयुक्त रूप से स्पष्ट दिशा-निर्देश देते हुए निर्धारित समयावधि के भीतर समस्याओं का शत् प्रतिशत् समाधान करते हुए विवरण प्रस्तुत करने के निर्देश दिये गये।
‘‘कैम्प रोड सेलाकुई में खुले में ई-वेस्ट तथा मेडिकल वेस्ट सहित डम्प किये जा रहे तथा जलाये जा रहे कूड़े को जिलाधिकारी ने प्रथम दृष्टया गम्भीर अपराध माना’’
इस सम्बन्ध में जिलाधिकारी ने सिडकुल, इण्डस्ट्रियल एसोसिएशन, जिला पंचायत, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, स्थानीय व्यापार संघ और स्थानीय पंचायत प्रतिनिधि के साथ बैठक आयोजित करते हुए एक सप्ताह के भीतर विभिन्न स्थानों से अलग-अलग तरह के आने वाले कूड़े की मात्रा को देखते हुए उसको दो कैटेगिरी में कलैक्ट करते हुए उसका शीशमवाड़ा तक ट्रांसपोर्ट करने तथा प्लांट में लगने वाले सेग्रिगेशन शुल्क इत्यादि खर्च को ध्यान में रखते हुए यूजर चार्ज वसूलनें और कूड़े के समुचित प्रबन्धन करने के सम्बन्ध में एक सप्ताह के भीतर कार्ययोजना बनाकर प्रस्तुत करने के निर्देश दिये। उन्होंने इण्डस्ट्रियल एसोसिएशन को पुलिस के समन्वय से सम्पूर्ण क्षेत्र को कवर करते हुए सीसीटीवी कैमरे लगाने तथा पुलिस विभाग को कन्ट्रोलरूम के माध्यम से उसकी लगातार माॅनिटिरिंग करने के निर्देश दिये, जिससे कूड़ा डालने वाला व्यक्ति भी पकड़ में आ जाय साथ ही कामगारों व महिलाओं की भी सुरक्षा सुनिश्चित हो सके। इस सम्बन्ध में उन्होंने तहसीलदार विकास नगर को पुलिस और इण्डस्ट्रियल एसोसिएशन से समन्वय स्थापित करते हुए बरसात के दिनों में नदी का प्रवाह बाधित ना हो इसको मद्देनजर रखते हुए स्थल पर जनहित के उपयोग हेतु एक सप्ताह के भीतर पार्किंग के डेवलपमेंट पर कार्य करने के निर्देश दिये। उन्होंने अधिशासी अधिकारी नगर पालिका हरर्बटपुर को हरर्बटपुर-लांघा की ओर से लाये जाने वाले कूड़े का हरबर्टपुर में ही सेग्रिगेशन व निस्तारण करने को निर्देशित किया। साथ ही प्रदूषण कन्ट्रोल बोर्ड तथा पुलिस प्रशासन को प्रदूषण तथा कानून व्यवस्था के सम्बन्ध में उल्लंघन करने वालों पर सख्त कार्यवाही करने के निर्देश दिये। 
इण्डस्ट्रियल एरिया से बाहर नदी से सटे हुए क्षेत्र में क्षतिग्रस्त सड़क और नदी के कटाव को रोकने के सम्बन्ध में उन्होंने 15 दिन में सिंचाई विभाग को सड़क के कटाव की सुरक्षा का प्लान तैयार करने, तहसीलदार विकासनगर को सम्बन्धित क्षेत्र को अतिक्रमणमुक्त करते हुए क्षतिग्रस्त सड़क का स्वामित्व 15 दिन के भीतर लोक निर्माण विभाग को स्थानान्तरित करने तथा लोक निर्माण विभाग को स्थानान्तरित सड़क का नये सीरे से निर्माण करने के लिए 20 दिन में प्रस्ताव बनाकर प्रस्तुत करने के निर्देश दिये। 
‘‘


 


ट्रक यनियनों द्वारा इण्डस्ट्रियल क्षेत्र में की जा रही अवैध वसूली पर सख्त कार्यवाही की जाय’’ 



जिलाधिकारी ने उप जिलाधिकारी विकासनगर पुलिस और संभागीय परिवहन अधिकारी को सम्बन्धित यूनियन के साथ बैठक करते हुए वाजिब शुल्क लेने के सम्बन्ध में चर्चा करने तथा अवैध रूप से की जाने वाली किसी भी वसूली के विरूद्ध सख्त-सख्त कार्यवाही करने को निर्देशित किया। 


‘‘ इण्डस्ट्रियल क्षेत्र में ही तैनात हो एम्बुलेंस’’



जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य विभाग द्वारा औद्योगिक क्षेत्र सेलाकुई की एम्बुलेंस को आईटी पार्क में तैनात रखने के चलते गहरी नाराजगी व्यक्त करते हुए औद्योगिक क्षेत्र के कामगारों के हित में एम्बुलेंस को ईएसआई अस्पताल में ही तैनात करने के निर्देश दिये साथ ही कामगारों को उपचार कराने के लिए निकट चिकित्सालय की सहज जानकारी के लिए एक सप्ताह के भीतर विजिबल स्थानों पर चार-पांच साईनबोर्ड लगाने और कामगारों के क्लेम का भुगतान तेजी करने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने इण्डस्ट्रियल एरिया में स्थित फायर स्टेशन के लिए आंवटित भूमि का विभाग के नाम दाखिला करने, पार्किंग के लिए अधिक भूमि की जरूरत और आकस्मिक परिस्थिति में पर्याप्त पानी की सप्लाई का समाधान सीडा, फायर पुलिस, सिडकुल, इण्डस्ट्रियल एसोसिएशन आपसी समन्वय से तथा शासन स्तर पर भी इससे सम्बन्धित जरूरी पहल करने के निर्देश दिये। 
‘‘पटेल नगर चैराहे पर यातायात में बाधक विद्युत पोल तत्काल शिप्ट किये जायं’’ 
जिलाधिकारी ने क्षेत्राधिकारी सदर, यूपीसीएल, नगर निगम, लो.नि.वि को एक सप्ताह में इण्डस्ट्रियल एसोसिएशन को साथ लेकर यातायात में बाधित दो विद्युत पोल को शिफ्ट करने, सड़क किनारे जल निकासी को दुरूस्त करने, बन्द नाले की सफाई करवाते हुए निकासी दुरूस्त करने और इण्डस्ट्रियल क्षेत्र में हाईटेंशन लाईन में सुधार करने के निर्देश दिये। पुलिस विभाग को औद्योगिक क्षेत्र के बाहर एवं भीतर सड़क पर चलने वाली अवैध दुकानों/फड़ों इत्यादि गतिविधियों पर लगाम लगाने, अवैध पार्किंग की रोकथाम करने तथा किसी भी प्रकार की अनाधिकृत गतिविधियों को रोकने के निर्देश दिये। उन्होंने वेडिंग जोन के निर्धारण करने में सम्बन्धित विभाग/स्टेक होल्डर्स की सिफारिस को भी शामिल करने की बात कही। बाहरी एवं आन्तरिक सड़क के स्पीड बे्रकर के सम्बन्ध में पुलिस, लो.नि.वि और परिवहन विभाग को तद्नुसार कार्यवाही करने के निर्देश दिये। 
‘‘नगर निगम नई हेल्पलाईन जारी करें’’   
जिलाधिकारी ने नगर निगम के क्षेत्र में कूड़ा निस्तारण तथा सेनिटेशन के उचित समाधान के लिए नगर निगम को नई टोल फ्री हेल्पलाईन जारी करते हुए उस पर प्राप्त होने वाली शिकायतों का निर्धारित समय में समाधान करने के निर्देश दिये। साथ ही पटेल नगर औद्योगिक क्षेत्र में खराब स्ट्रीट लाईट को तत्काल ठीक करने तथा औद्योगिक क्षेत्र के भीतर डम्प किये जा रहे कूड़े के लिए जगह चयनित करते हुए 15 दिन के भीतर स्मार्ट डस्टबिन लगाने के भी निर्देश दिये। 
जिलाधिकारी ने स्वच्छता सर्वेक्षण के सम्बन्ध में सभी विभागों/एसोसिएशन/ऐजेंसियों से सक्रिय भागीदारी करने की अपील भी की। 
बैठक उप जिलाधिकारी सदर गोपाल राम बिनवाल, जिला उद्योग केन्द्र महाप्रबन्धक शिखर सक्सेना, उप नगर आयुक्त नगर निगम सोनिया पंत, उत्तराखण्ड इण्डस्ट्रियल ऐसोसिएशन के अध्यक्ष पंकज गुप्ता, सिडकुल उप महाप्रबन्धक नरेश कुमार, वरिष्ठ आर्किटेªक्चर सीडा दिनेश पुरोहित, सीओ सदर अनुज कुमार, सिंचाई, लो.नि.वि, विद्युुत, नगर निगम, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, परिवहन, राजस्व, जिला पंचायत, स्वास्थ्य सहित अन्य सम्बन्धित स्टैक होल्डर्स के सदस्य उपस्थित थे।