सड़कों पर भीख मांग कर गुजारा करने वाले मासूमों के जीवन को दिशा देने के लिए उत्तराखंड पुलिस आई आगे

सड़कों पर भीख मांग कर गुजारा करने वाले मासूमों के जीवन को दिशा देने के लिए उत्तराखंड पुलिस आगे आई है। उत्तराखंड पुलिस द्वारा प्रदेश भर में आपरेशन मुक्ति अभियान चलाया जाऐगा जिसके तहत भिक्षावृत्ति में फंसे बच्चों को नजदीकी स्कूलों में पढ़ाई के लिए उनका दाखिला करवाया जाएगा. इतना ही नहीं उत्तराखंड पुलिस लोगों को भी इसके लिए जागरूक कर रही है उनका कहना हैं कि लोग बच्चों को भीख ना दें बल्कि उन्हें शिक्षित करने का प्रयास करें।

- दरअसल पिछले साल भी देहरादून में आपरेशन मुक्ति अभियान चलाया गया था इस दौरान महत्वपूर्ण, भीड़ भाड़ वाले स्थानों पर अभियान चलाकर 292 बच्चों को भीख मांगने, कूड़ा बीनने, गुब्बारा बेचने आदि के कार्य में चिह्नित किया गया। इनमें से 67 बच्चे ऐसे थे, जिनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी, उन्हें विभिन्न स्कूलों में ऐडमीशन दिलवाया गया। 42 बच्चे, जिनकी पारिवारिक आर्थिक स्थिति अत्यंत खराब थी, उनकी आर्थिक सहायता के लिए बाल कल्याण अधिकार संरक्षण आयोग को भी रिपोर्ट प्रेषित की गई। सिओ सिटी शेखर सुयाल ने जानकारी देते हुए बताया कि आपरेशन मुक्ति अभियान के लिए जिले में देो टीमों का गठन किया है जो सडकों पर भीख मांगकर गुजारा करने वाले सहित ऐसे बच्चों की पहचान करेगें जो कूडा बीनने सहित अन्य काम कर रहे है ।