क्या प्रदेश के युवाओं को को मिलेगी उनके हक की कमाई

..
देश में वैश्विक महामारी में जहां एक ओर सारा देश विकट परिस्थितियों से जुझ रहा है, माननीय प्रधानमंत्री जी ने सभी प्राइवेट कंपनी के मालिकों को स्पष्ट निर्देश दिए कि सभी को पूर्ण वेतन दिया जाय, लेकिन उत्तराखंड में इसकी धज्जियाँ उड़ायी जा रही है, देहरादून के मोहोबेवाला में स्थित "विंडलास बायोटेक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में एक वर्ष से कार्यरत लड़कियों को इस कारण से हटा दिया कि वे लॉक डाउन के दौरान 3दिन कार्य पर नहीं आए, जबकि उस दौरान सार्वजानिक परिवहन सेवाएं बंद थी, और जिस कारण इन्हें पूरा वेतन भी नहीं दिया गया, जिसकी लिखित शिकायत भी दर्ज की गई व, कंपनी में पूछने पर इन्हें बाहर कर दिया गया, ये सभी देहरादून में किराये पर रहते हैं व इस विकट परिस्थिति में कंपनी की तरफ से इस प्रकार का व्यवहार किया गया, जो कि महिला शक्ति का अपमान है, इस विषय पर उत्तराखंड क्रांति दल युवा प्रकोष्ठ की जिला अध्यक्ष सीमा रावत, जिला महामंत्री विनीत सकलानी, पुर्व विधायक प्रत्याशी रायपुर अनिल डोभाल व युवा प्रकोष्ठ के केंद्रीय अध्यक्ष राजेन्द्र बिष्ट ने कंपनी को चेताया कि यदि अतिशीघ्र इनके वेतन का भुगतान नहीं किया गया तो, कंपनी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग की जाएगी, साथ ही राजेंद्र बिष्ट ने अन्य सिडकुल से संबंधित उद्योगों के मालिकों को चेताया कि अति शीघ्र सभी का वेतन दिया जाए, क्योंकि इस समय जनता के सम्मुख अर्थिक बोझ है, व फार्मा सेक्टर के प्राइवेट कर्मचारी विषम परिस्थितियों में भी कार्य कर रहे है, और ऐसे में हरिद्वार, रुद्रपुर, देहरादून में ऐसी कंपनी है जो वेतन का भुगतान नहीं कर रही है, अगर इस प्रकार से प्रदेश में कार्यरत कर्मचारियों की अनदेखी की जाती है तो युवा उक्रांद इनके खिलाफ उग्र आंदोलन करेगा l