विधानसभा सदस्यों के प्रश्नो को ऑनलाइन किया जाएगा स्वीकार

कोरोना वायरस के संक्रमण में लॉकडाउन के फलस्वरुप उत्तराखंड की चतुर्थ विधानसभा के वर्ष 2020 के द्वितीय सत्र हेतु उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष श्री प्रेमचंद अग्रवाल ने सभी विधानसभा सदस्यों से क्षेत्र से सम्बंधित समस्या के  प्रश्नों को ऑनलाइन विधानसभा को प्रेषित करने की स्वीकृति दी है।


वर्तमान में कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के उद्देश्य से लागू लॉकडाउन को दृष्टिगत रखते हुए विधानसभा अध्यक्ष ने कहा है कि वर्ष 2020 के द्वितीय सत्र हेतु विधानसभा के सभी सदस्य ऑनलाइन अपने प्रश्न विधानसभा को प्रेषित कर सकते हैं।साथ ही एक दिन में पाँच प्रश्न ही प्रेषित करने की अनुमति दी गई है।श्री अग्रवाल ने बताया कि इस संबंध में विधानसभा के सभी सदस्यों को पत्र के माध्यम से जानकारी दे दी गई है।


विधानसभा अध्यक्ष ने बताया कि सभी विधायक विधानसभा द्वारा आवंटित अपनी मेल आईडी से ही प्रश्नों को विधानसभा सचिवालय को प्रेषित करेंगे। श्री अग्रवाल ने यह जानकारी भी दी है कि सभी विधानसभा के सदस्यों को लॉकडाउन समाप्त होने के 1 सप्ताह अथवा प्रश्न प्रेषित करने की तिथि से 1 माह के भीतर जो भी पहले हो, प्रश्न की मूल प्रति विधानसभा के प्रश्न अनुभाग में उपलब्ध कराना अनिवार्य होगा।


विधानसभा अध्यक्ष ने कहा है कि कोरोना महामारी के इस संकट के दौर में विधानसभा सचिवालय द्वारा  ज़्यादातर  विधायी कार्यों को ऑनलाइन एवं वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए पूर्ण करवाया जा रहा है।इसी क्रम में  विधान सभा के सदस्यों के प्रश्नों को भी ऑनलाइन स्वीकार किया जा रहा है जिससे किसी भी सदस्य को समस्या ना हो एवं लॉकडाउन का भी पालन होता रहे।