अब तक राज्य वापसी के लिए पंजीकृत केवल पांच प्रतिशत लोग आ पाए वापस सरकार के नहीं हैं कोई इंतजाम- धस्माना

: उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना ने आज एक बार फिर त्रिवेंद्र सरकार पर उत्तराखंड लोग जो बाहर के राज्यों में फंसे हैं और अपने राज्य वापस आना चाहते हैं उन लोगों को वापस लाने में राज्य सरकार के इंतजाम व प्रयासों को नाकाफी बताते हुए त्रिवेंद्र सरकार पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए जोरदार हमला किया है। आज प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में पत्रकारों से बातचीत करते हुए श्री धस्माना ने कहा कि अब तक सरकारी साइट पर वापसी के इच्छुक एक पौने दो लाख लोगों में से मात्र सात हजार लोगों को ही सरकार वापस ला पाई है । श्री धस्माना ने कहा कि दूसरे राज्यों से लाये जाने वाले लोगों को कवारेंटिंन करने के लिए उनके भोजन के लिए अब तक कोई पुख्ता इंतजाम सरकार ने नहीं किये हैं। श्री धस्माना ने कहा कि राज्य सरकार को चाहिए कि पूरे प्रदेश के हर जिले में इंस्टिट्यूशनल कवारेंटिंन करने के लिए जिलों के महाविद्यालय व इंटर कॉलेजों को अधिकृत करें व वहां रुकने वाले नागरिकों के लिए उचित भोजन पीने के पानी व शौचालयों की व्यवस्था करे। इस कार्य के लिए स्वयं सेवी संस्थाओं की सेवा ले। श्री धस्माना ने कहा कि अगर देहरादून में इस प्रकार का कोई कवारेंटिंन सेंटर सरकार बनाये तो उनका ट्रस्ट देवभूमि मानव संसाधन विकास ट्रस्ट वहां ठहरे सभी लोगों के भोजन पानी की व्यवस्था करने के लोई तैयार है। श्री धस्माना ने कहा कि रोजाना उनके पास देश के अलग अलग राज्यों और शहरों से उत्तराखंड के फंसे हुए लोगों के फोन आ रहे हैं वापसी का इंतज़ाम करवाने के लिए किन्तु सरकार अब तक ठोस इंतजामात नहीं करवा पाई है। श्री धस्माना ने कहा कि महाराष्ट्र गुजरात बिहार उत्तरप्रदेश इंदौर मध्यप्रदेश समेत कई महमगरों में उत्तराखंड के लोग इंतज़ार में आस लगाए बैठे हैं घर वापसी की।