योग शिक्षकों की नियुक्ति की मांग 

पूर्व शिक्षा मंत्री मंत्री प्रसाद नैथानी ने राज्य सरकार से बेसिक कक्षाओं से लेकर स्नातकोत्तर स्तर तक योग शिक्षकों की नियुक्ति की मांग की है। साथ ही उन्होने सरकार पर योग की उपेक्षा का आरोप लगाते हुए सवाल उठाते हुए कहा कि सरकार योग के नाम पर दावे बहुत बड़े बड़े करती है, लेकिन जमीनी हकीकत बिलकुल अलग है। प्रदेश में हजारों योग प्रशिक्षित बेरोजगार हैं। लंबे समय से वो नियुक्ति की मांग कर रहे हैं। लेकिन स्कूलों में योग शिक्षकों की नियुक्ति के प्रस्ताव धूल फांक रहे हैं। नैथानी ने कहा कि योग के प्रति जागरूकता के लिए दिलराज प्रीतकौर को ब्रांड एंबेस्डर बनाया तो गया, लेकिन उन्हें मानदेय तक के लिए तरसना पड़ रहा है जो कि सही नहीं है......सरकार को उन्हें वेतन देने के साथ ही बेसिक शिक्षा से लेकर स्नातकोत्तर तक के कालेज में योग प्रशिक्षकों की नियुक्ति करें। इससे राज्य के प्रशिक्षित बेरोजगारों को रोजगार भी मिलेगा।