कोरोनेशन हॉस्पिटल के सी एम एस पर लगे उत्पीडन के आरोप सी एम एस बोले होनी चाहिए जांच आरोप निराधार


कोरोनेशन अस्पताल में तैनात 3 महिला फिजियोथेरेपिस्ट ने अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ bc रमोला पर मानसिक उत्पीड़न के आरोप लगाए हैं। इसकी शिकायत स्वास्थ्य महानिदेशक और महिला आयोग से की गई है। शिकायत में अस्पताल की फिजियोथैरेपिस्ट मेधा बुकेश्वर, वसुधा शर्मा व टीना जोशी ने कहा है कि अस्पताल में कुल चार फिजियोथैरेपिस्ट तैनात हैं। जिसमे से तीन महिलाएं ओर एक पुरुष हैं। Dg हेल्थ और महिला आयोग को लिखी गई शिकायत में तीनो महिला कर्मचारियों ने कहा है कि चिकित्सा अधीक्षक डॉ रमोला ने उन्हें अपने ऑफिस में बुलाकर पहले काम की तारीफ की और फिर कहा कि इसमें अभी और सुधार की जरूरत है। ऑफिस में डॉ नौटियाल भी बैठे थे। महिला कर्मचारियों से कहा गया कि हीरोइन लग रही हो कुछ काम भी कर लिया करो। यही नही तीनो महिला फिजियोथैरेपिस्ट की गांधी अस्पताल में रात की ड्यूटी भी लगाई गई है। फिजियोथैरेपिस्ट ने इस मामले में dg हेल्थ और महिला आयोग में शिकायत की है। इधर इन आरोपों के संदर्भ में कोरोनेशन अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ बी सी रमोला ने कहा कि आरोप पूरी तरह गलत और निराधार हैं। उन्होंने कहा कि आरोप लगाने वाली कुछ महिलाओं ने आरोप वापस ले लिए हैं। उन्होंने यह भी कहा कि आरोपों की जांच से कोई आपत्ति नही है। यदि शिकायत हुई है तो उनकी जांच होनी चाहिए।