राजपुर पुलिस द्वारा किया गया सेक्स रैकेट का फंडाफोड़


       विगत दिनों से थाना राजपुर पुलिस को गुप्त सूत्रों से सूचना प्राप्त हो रही थी कि कुछ गैंग संगठित रूप से अन्य प्रदेशों की लड़कियों को देहरादून में लाकर उनको अलग अलग होटल/गेस्ट हाउस आदि में रखकर कस्टमर की डिमांड पर उनको उनके स्थान पर ही छोड़कर अवैध अनैतिक देह व्यापार कर रहे हैं, इनका नेटवर्क वर्तमान में दिल्ली से ऑपरेट हो रहा है, इस सूचना के संबंध में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून को अवगत कराया गया, जिस पर देवभूमि की राजधानी देहरादून में उक्त प्रकार की गतिविधि को महोदय द्वारा गंभीरता से लेते हुए, उक्त प्राप्त सूचना के तथ्यों को भली- भांति परीक्षण कर उक्त गैंग का पर्दाफाश  कर आवश्यक विधिक कार्यवाही करने हेतु आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए थे, जिस पर पुलिस अधीक्षक नगर, व co मसूरी  के निकट पर्यवेक्षण में थानाध्यक्ष राजपुर के नेतृत्व में थाना स्तर पर एक टीम का गठन किया गया तथा टीम के सहयोग हेतु जनपद में गठित एन्टी ह्यूमन ट्रैफिकिंग टीम के सदस्यों को भी आवश्यक सहयोग हेतु निर्देशित किया गया था। 
          गठित टीम द्वारा प्राप्त तथ्यों का गहनता से परीक्षण/विश्लेषण किया गया, तो पाया कि वर्तमान में एक संगठित गैंग विभिन्न प्रदेशों से लड़कियों को लाकर शहर के अलग अलग होटल्स व गेस्ट हाउस आदि में रखकर कस्टमर की डिमांड पर कस्टमर के बताये स्थान पर गाड़ियों से लड़कियों को छोड़ रहे हैं, इनके साथ कुछ लोकल टैक्सी ड्राइवर भी मिले हुए है, उन गाड़ियों से ही यह लड़कियों को शहर के विभिन्न स्थानों पर छोड़ते हैं, इनका मुख्यरूप से राजपुर व मसूरी छेत्र में अधिक जाना होता हैं, इस क्रम में कल रात्रि करीब 11 बजे पुलिस सूत्रों से जानकारी मिली कि उक्त गैंग आज मसूरी, राजपुर की और दो गाड़ियों स्विफ्ट dezire व टाटा इंडिगो से लड़कियों को लेकर आ रहे हैं, जो राजपुर या मसूरी जाएंगे।  इस सूचना पर पुलिस टीम द्वारा किशनपुर चेक पोस्ट मसूरी divergan पर बैरियर लगाकर सघन चैकिंग प्रारम्भ की गई, कुछ देर पश्चात ही जाखन की और से दो गाड़िया आती दिखाई दी, जिनको रोककर चेक किया गया तो, पहली गाड़ी टाटा इंडिगो में चालक सहित 4 लड़के तथा दो लड़कियां मिली तथा दूसरी गाड़ी स्विफ्ट dizire कार में चालक सहित 3 लड़के व 4 लडकिया मिली, इनकी जामातलाशी व कार की तलाशी से सेक्स वर्धक कैप्सूल व टेबलेट तथा कई कॉन्डम के पेकेट आदि बरामद हुए, तथा इनके मोबाइल चेक किये गए,  जिसने इनके व्हाट्सएप पर लड़कियों की तस्वीरे तथा उसका रेट आदि दूसरे नम्बर पर भेजना तथा लड़की को किस स्थान पर ड्राप करना आदि उसमे लिखा पाया गया, इस प्रकार उक्त बरामद आपत्तिजनक बस्तुओ व मोबाइल में पाए गए अश्लील साहित्यों व तस्वीरों के संबंध में पूछने पर इनके द्वारा प्रारम्भ में संतोषजनक जबाब नही दिया गया, सख्ती से पूछताछ पर लड़कियों ने बताया कि यह सब इनके द्वारा दिल्ली से बुलवाई गयी है, दिल्ली में अमित नाम का व्यक्ति फ़ोन के माध्यम से ही इनको देहरादून में भेजता है, तथा यहां के ब्रोकर इनको कस्टमर तक अनैतिक देह व्यापार हेतु छोड़ते हैं। यह काम पैसे की जरूरत होने पर मजबूरी में करती है, इनकी कमाई का ज्यादा हिस्सा यह खुद रख लेते हैं, इस प्रकार पाया कि इन सात व्यक्तियों में दो टैक्सी ड्राइवर 4 ब्रोकर व एक कस्टमर है, जिनको अनैतिक देह व्यापार अधिनियम व ह्यूमेन ट्रैफिकिंग की धारा 370 ipc के अपराध में गिरफ्तार किया गया, तथा 6 पीड़िताओं को इनके चंगुल से सकुशल मुक्त नकराया गया, उक्त अभियुक्त गणो के विरुद्ध थाना राजपुर पर उचित धाराओ में अभियोग पंजीकृत किया गया है, अभियुक्तो को आज मान0 न्यायालय पेश किया जा रहा है, मुक्त कराई गई लड़कियों का मेडिकल परीक्षण कराकर मजिस्ट्रेटी बयान दर्ज कराए जा रहे हैं, तथा पीड़िताओं के परिजनों को सूचित कर दिया गया है। शेष आवश्यक कार्यवाही की जा रही है।


 


            पूछताछ पर पीड़िताओं द्वारा बताया कि इनमें से कोई 4 माह, कोई 8 माह कोई 10 माह से इन ब्रोकरो द्वारा इनसे दोस्ती करके प्यार के जाल में फसाया और यह कहकर कि हम तुम्हारी नौकरी किसी अच्छी कंपनी में लगवा देंगे,  अलग अलग शहरो जिसमे *दो पीड़िता वेस्ट बंगाल से, दो पीड़िता हरियाणा से तथा दो पीड़िता दिल्ली से लेकर* सभी को दिल्ली में रखा गया था, यहाँ कुछ दिन रखने के बाद यह कहकर कि दिल्ली में नौकरी मिलना बहुत मुश्किल है, कुछ और काम किया जाए जिससे मोटा पैसा मिले, चूंकि सभी पीड़िताओं को पैसे की बहुत जरूरत होने के कारण, इनके द्वारा सभी को देह व्यापार के धंधे में उतार दिया गया,  तब से ये इनके चंगुल में फसकर काम करने लगी, तथा इनके द्वारा कमाई का 25 प्रतिशत पीड़िता को और 75 प्रतिशत यह खुद रखते थे, इनको इंटरनेट के माध्यम से अलग अलग शहरों में भेजा जाने लगा, एक रात्रि के, किसी को 4 हज़ार, किसी को 5 हज़ार व किसी को 10 हज़ार तक  देह व्यापार के लिए भेजा जाता था, दिल्ली में अमित  नाम का व्यक्ति इनको शहर बताता था, और वही whasapp के माध्यम से कस्टमर का फ़ोन और एड्रेस दे दिया जाता था और ये लड़कियों को वहां छोड़ आते थे, कस्टमर पैसा ऑनलाइन सीधा अमित को पे कर देता था, *देहरादून मे अभियुक्त  हबीब द्वारा करीब 4 माह पहले निकट शिवमंदिर कारगी चौक पर एक 2 रूम सेट 8000 रुपये प्रति माह किराये पर लिया, और लोकल दोनों टैक्सी ड्राइवर्स को अपने साथ पैसों का लालच देकर मिला लिया, तथा अन्य ब्रोकरों को भी यही बुला लिया, तथा इन लड़कियों को भी दिल्ली से बुलाकर अलग अलग होटल्स व गेस्ट हाउस में रख दिया, अब कस्टमर की डिमांड पर यह लड़कियों को उनके स्थान पर छोड़ने लगे, कल रात्रि को भी इन लड़कियों को अलग अलग कस्टमर के पास छोड़ने जा रहे थे कि पकड़े गए, अभियुक्त हबीब ने ये भी बताया कि यह मूल रूप से वेस्ट बंगाल का रहने वाला है, मैट्रिक पास है, अभी शादी नही की है, दिल्ली में होटल लाइन में काम करता था, पैसा कम मिलने के कारण इसकी गर्ल फ्रेंड के माध्यम से यह दिल्ली के अमित से मिला, इसकी गर्ल फ्रेंड इसी धंधे में थी, उसको निकालने के लिए यह भी इस धंधे में आ गया, और ज्यादा पैसा आते देख फिर यह इसी धंधे में उतर गया , लड़कियों को रखने के लिए हॉटेल्स की oyo के माध्यम से बुकिंग कर लेते थे, हर दो या तीन दिन में होटल बदल देते थे, यह अब तक करीब 15 से 20 लड़कियों को देहरादून में ला चुका है, एक लड़की को 5, 7 या 10 दिन से ज्यादा एक शहर में नही रखते हैं, एक लड़की के एक नाईट में 4 से लेकर 10हज़ार रुपये तक कस्टमर से लेते थे, कल रात्रि को दो लड़कियों को 20 हज़ार व 4 लड़कियों को 5 -5 हज़ार रुपये में लेकर जा रहे थे। इसमें इन सबकी काम के अनुसार हिस्सेदारी रहती है।*
             पूछताछ से पीड़िताओं व अभियुक्तो द्वारा उक्त कार्य मे लिप्त अन्य व्यक्तियों व महत्वपूर्ण तथ्यों की भी जानकारी दी गयी है, जिसका परीक्षण/विश्लेषण कर सही तथ्यों को विवेचना में शामिल कर आवश्यक वैधानिक कार्यवाही की जाएगी।
           *इस प्रकार राजपुर पुलिस द्वारा देहरादून में संगठित देह व्यापार करने वाले गिरोह के 7 सदस्यों को गिरफ्तार कर 6 पीड़िताओं को उनके चंगुल से मुक्त कराकर उनको सामान्य जीवन जीने के लिए एक अवसर प्रदान किया गया है, जिसकी जनता द्वारा प्रंशनशा की गई है। तथा पीड़िताओं के परिजनों द्वारा उत्तराखंड पुलिस को धन्यवाद दिया गया है।