गंगा में कूदने से रोकने के लिए और ऊंची होंगी बैराज पुल की ग्रिल



कानपुर गंगा बैराज पर आत्म हत्या की बढ़ती घटनाओं पर रोक लगाने के लिए प्रशासन ने कवायद शुरू कर दी है। बैराज से गंगा नदी में कूदकर जान देने की कई घटनाएं सामने आने के बाद डीएम ने गंभीरता दिखाई है और इसपर अंकुश लगाने के क्रम में दिशा निर्देश जारी किए हैं। डीएम ने बैराज पुल के दोनों ओर ऊंची ग्रिल लगाने का निर्देश दिया है। साथ ही उनके ऊपर भाले भी लगाने के लिए कहा गया है।

 

इटावा के ग्रामीण अभियंत्रण विभाग में जूनियर इंजीनियर झांसी केकेपुरी कॉलोनी निवासी रामसनेही वर्मा की 24 वर्षीय छोटी बेटी अमृता सिंह जीएस वीएम मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस फाइनल ईयर की छात्रा थी। 11 फरवरी से उसकी परीक्षाएं शुरू होनी थीं। गुरुवार को वह बाजार जाने की बात कहकर स्कूटी लेकर निकली थी। गंगा बैराज पहुंचकर स्कूटी खड़ी करने के बाद वह पुल की ग्रिल से नदी में कूद गई थी। दूसरे दिन उसका शव शुक्लागंज उन्नाव में मिला था।

 

बैराज पर बढ़ रही खुदकशी की घटनाओं पर गंभीर डीएम डॉ. ब्रह्मदेव राम तिवारी, एसएसपी अनंत देव तिवारी, एडीएम सिटी विवेक कुमार श्रीवास्तव समेत अधिकारियों ने गंगा बैराज का मुआयना किया। डीएम ने सिंचाई विभाग के अधिकारियों को बुलवाकर गंगा बैराज पुल की टूटी जालियों को देखकर नाराजगी जताई। दोनों तरफ ग्रिल की जालियों को ऊंची करने के निर्देश दिए। गंगा किनारे पर लाइफ सेविंग ट्यूब रखवाने के लिए निर्देशित किया। पुलिस से गंगा बैराज पर ट्रैफिक नियम तोडऩे वालों पर कार्रवाई के लिए कहा